what is Firewall in Hindi ...?

                    [ F I R E W A L L ]  







हेलो  फ्रेंड्स आज हम बात करते है। फ़ायरवॉल के बारे में आप सभी Internet  का इस्तमाल करते है तो आप ने  फ़ायरवॉल के बारे में भी ज़रूर सुना ही होगा। मै  अगर आपको  इसको एक  non -computer  के term  में बताऊ  तो  अगर  हम घर की दीवारों पर फ़ायरवॉल का इस्तमाल करते है तो  अगर कही घर में आग लग गई है तो वह इस कमरे में नहीं आ पाती है। और उसी  तरह से अगर आग अंदर लगी है तो वह  बाहर नहीं जा पाती है।  


अत : आप फ़ायरवॉल का basic कंस्पेक्ट समज  ही गए होंगे  अब हम बात करते है.की Firewall  को हम कम्पूटर में को use  करते है और यह कंप्यूटर के field में होता क्या है। 




Firewall  हमारे कंप्यूटर को Security provide  कराने की एक  वयवस्था होती  है। हम सभी इंटरनेट का इस्तमाल करते है तरह-तरह की  वेबसाइट को visit  करते है  गाने , वीडियो आदि को डाउनलोड करते है।  तो इस तरह से काफी ट्रैफिक हमारे कंप्यूटर पर आता है। और इसके  साथ  ही साथ वायरस   Malware   भी  आने  का  chance  भी   रहता  है।



इन सभी को फायर वाल आने से रोकता है। यह उन सभी unwanted सॉफ्टवेयर को डाउनलोड होने से रोकता है ,जो बिना हमारी permission के P.C में  install  हो जाता है।और  हमारे  important information  का mis use करता है ,अर्थात फ़ायरवॉल हमारे कंप्यूटर को हैकिंग आदि से भी बचता है.                                   

Firewall  कंप्यूटर को  two way प्रोटेक्शन देता है  मतलब  अगर हमारे सिस्टम में कोई वायरस किसी प्रकार आ गया है ,और हम किसी नेटवर्क से जुड़े हुवे है तो फ़ायरवॉल इस virus  को नेटवर्क में जाने से रोकता है। 



Types OF Firewall in Hindi [ फ़ायरवॉल के प्रकार हिंदी में ] 


फ़ायरवॉल दो प्रकार का होता है। एक Hardware Firewall  और Software Firewall


1. Hardware Firewall -



             


अगर हम बात करे हार्डवेयर फ़ायरवॉल की तो आज  कल के मॉर्डर्न  राउटर्स में ये  in  built होते है ये सामान्तया  किसी नेटवर्क में काम करते है जिसमे कुछ कम्प्यूटर्स एक दूसरे से कनेक्ट होते है।
यो अगर इस तरह से फ़ायरवॉल हमारे नेटवर्क के सभी कम्प्यूटर्स को प्रोटेक्शन देता है। 

ये Routers कुछ इस तरह से काम करते है के अगर हम इसके हेल्प से इंटरनेट पर serf करते करते है या किसी वेबसाइट पर  visit   करते है तो.जब हमारे कंप्यूटर से कोई डाटा बाहर जाता है तो यह फ़ायरवॉल इसके साथ एक Network Id लगा देता है और बाद जब भी कोई पैकेट (डाटा) कंप्यूटर में  आता  तो यह उसी Id  की हेल्प से उसको Permission  देता है अन्यथा  यह  उस Unwanted  डाटा को वही रोक देता है।       





2-Software Firewall 








यह फ़ायरवॉल का  काम भी  हार्डवेयर फ़ायरवॉल जैसा ही होता है यह  फ़ायरवॉल  आपके ऑपरेटिंग सिस्टम में पहले से ही होता है  Windows -7 , Windows -10  आदि  में सुविदा पहले से ही रहती है 
और कुछ एंटीवायरस भी मार्किट में है जो आपको फ़ायरवॉल का Feature provide करते है। जिसको आप यूज़ कर सकते है। 


आप ने खुद भी कई बार देखा होगा जब आप कोई गेम इनस्टॉल करते है या फिर कोई एप्प इनस्टॉल करते है कुछ इस तरह का pop -up  बॉक्स आपको दिखता होगा जिसमे allow  और deny का Option होता है और उसमे से आप  कोई एक ऑप्शन सेलेक्ट करते है  असल  में ये फ़ायरवॉल ही  होता है 


              


जब भी हम कोई नई Application  अपने कंप्यूटर में इनस्टॉल करते है तो ,फ़ायरवॉल उसके कुछ unwanted Feature को block कर देता है। और इसे की notification वो बॉक्स में देता है जिसको आप अपने अकॉर्डिंग मैनेज कर सकते है. 





                      
Previous
Next Post »